UP Assistant Teacher

उत्तर प्रदेश शिक्षा बोर्ड ने 69,000 सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए आवेदन प्रक्रिया 06 दिसंबर 2018 से शुरू कर दी है। जिसके लिए लिखित परीक्षा 06 जनवरी 2019 को आयोजित की जा रही है। यूपी असिस्टेंट टीचर लिखित परीक्षा में बहुत ही कम समय रह गया है तो ऐसे में उम्मीदवार हमारे द्वारा बताएं जा रहे एग्जाम प्रेपरेशन टिप्स के द्वारा अपनी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दें।

उम्मीदवारों को परीक्षा देने से पहले परीक्षा की पूरी जानकारी होनी चाहिए कि परीक्षा में प्रश्न किस-किस विषय से और कितने नंबर का आता है और फिर इसके आधार पर परीक्षा की तैयारी करनी चाहिए।

आप लोगों को बता दें कि उत्तर प्रदेश में 69,000 सहायक अध्यापक की भर्ती परीक्षा में 150 प्रश्न पूछे जायेंगे जो कि बहुविकल्पीय प्रकार के होने और जिनके लिए उम्मीदवारों को अधिकतम 150 अंक दिए जायेंगे। अध्यापक भर्ती परीक्षा पेपर-पेन आधारित परीक्षा होगी। उम्मीदवारों को अपने उत्तर ओएमआर सीट में भरने होंगे। परीक्षा के लिए आपको दो घंटे 30 मिनट दिए जायेंगे। प्रश्न पत्र उम्मीदवारों की सुविधा के लिए हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषा में उपलब्ध होंगे।

सहायक भर्ती परीक्षा में उम्मीदवारों से बारहवीं स्तर तक हिंदी, संस्कृत व अंग्रेजी भाषा के प्रश्न, विज्ञान, गणित, पर्यावरण एवं सामाजिक अध्ययन के प्रश्न पूछे जायेंगे। बता दें कि परीक्षा में उम्मीदवारों से 80 अंकों के प्रश्न इन विषयों से पूछे जाते हैं।

इसके अलावा 35 अंकों के प्रश्न डी.एल.एड के स्तर से शिक्षण कौशल, बाल मनोविज्ञान, सूचना तकनिकी, जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति से पूछे जायेंगे। इसके अलावा उम्मीदवारों से 35 अंकों के प्रश्न सामान्य ज्ञान और तार्किक ज्ञान के पूछे जायेंगे। 

अब बात अलग-अलग विषयों के अंकों के बारे में की जाये तो भाषा हिंदी, संस्कृत तथा अंग्रेजी में उम्मीदवारों से 40 नंबर के व्याकरण एवं अपठित गद्यांश के प्रश्नों के उत्तर देने होंगे।

विज्ञान में उम्मीदवारों से दैनिक जीवन में विज्ञान, गति बल, ऊर्जा, दूर, प्रकाश, ध्वनि, जीवों की दुनिया, मानव शरीर स्वास्थ्य, स्वच्छता एवं पोषण, पर्यावरण एवं प्राकृतिक संसाधन, पदार्थ एवं पदार्थ की अवस्थाएं से 10 नंबर के प्रश्न आएंगे।

गणित में अंकीय क्षमता, गणितीय संक्रियाएँ, दशमलव, स्थानीयमान, भिन्न, ब्याज, लाभ-हानि, प्रतिशत विभाज्य, गुणनखंड, ऐकिक नियम, सामान्य बीजगणित, क्षेत्रफल औसत आयतन, अनुपात, सर्वसमिकाएँ, सामान्य ज्यामिति, सामान्य सांख्यिकी से 20 नंबर के प्रश्न आएंगे।

पर्यावरण एवं सामाजिक अध्ययन में पृथ्वी की संरचना, नदियां, पर्वत, महाद्वीप, महासागर व जीव, प्राकृतिक सम्पदा, अक्षांश और देशांतर, सौरमंडल, भारतीय भूगोल, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम, भारतीय समाज सुधारक, भारतीय संविधान, हमारी शासन व्यवस्था, यातायात एवं सड़क सुरक्षा, भारतीय अर्थव्यवस्था एवं चुनौतियाँ, हमारी सांस्कृतिक विरासत, पर्यावरण संरक्षण, प्राकृतिक आपदा प्रबंधन से 10 नंबर के प्रश्न आएंगे।

शिक्षण कौशल विषय से 10 नंबर के शिक्षण की विधियां एवं कौशल, शिक्षण अधिगम के सिद्धांत, वर्तमान भारतीय समाज एवं प्रारंभिक शिक्षा, समावेशी शिक्षा, प्रारंभिक शिक्षा के नवीन प्रयास, शैक्षिक मूल्यांकन एवं मापन, आरंभिक पठन कौशल, शैक्षिक प्रबंधन एवं प्रशासन से प्रश्न पूछे जायेंगे।

बाल मनोविज्ञान के भी 10 नंबर के वैयक्तिक भिन्नता, बाल विकास को प्रभावित करने वाले कारक, सीखने की आवश्यकता की पहचान, पढ़ने के लिए वातावरण का सृजन करना सीखने के सिद्धांत तथा कक्षा-शिक्षण में इनकी व्यवहारिक उपयोगिता एवं प्रयोग, दिव्यांग छात्रों हेतु विशेष व्यवस्था से प्रश्न पूछे जायेंगे।

सूचना तकनीकी विषय से परीक्षा में शिक्षण कौशल विकास, कक्षा-शिक्षण तथा विद्यालय प्रबंधन के क्षेत्र में सूचना तकनीकी कंप्यूटर, इंटरनेट, स्मार्टफोन, ओ.ई.आर, शिक्षण में उपयोगी एप्स, डिजिटल, शिक्षण-सामग्री के उपयोग की जानकारी से 5 नंबर के प्रश्न पूछे जा सकते हैं।

जीवन कौशल/प्रबंधन एवं अभिवृत्ति से 10 नंबर के प्रश्न व्यवसायिक आचरण एवं नीति, प्रेरणा, शिक्षण की भूमिका, संवैधानिक और मानवीय मूल, दंड एवं पुरस्कार व्यवस्था का प्रभावी प्रयोग से पूछे जायेंगे।

इनके अलावा 30 नंबर के प्रश्न सामान्य ज्ञान से समसामयिक महत्त्वपूर्ण घटनायें-अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय, प्रदेश से सम्बन्धित महत्त्वपूर्ण घटनाएं स्थान, व्यकितत्व, रचनाएँ, अंतर्राष्ट्रीय तथा राष्ट्रीय पुरस्कार/खेल-कूद, भारतीय संस्कृति एवं कला के प्रश्न आएंगे और 5 नंबर के प्रश्न तार्किक ज्ञान से आएंगे।

ज्यादा से ज्यादा हो सके तो उम्मीदवार टीचर भर्ती के सैंपल पेपर हल करें। सैंपल पेपर हल करने से उम्मीदवार परीक्षा पैटर्न को आसानी से समझ पाएंगे और ये भी समझ पाएंगे कि परीक्षा में प्रश्न किस प्रकार के आते हैं।

अक्षत पटेल एक साल से शिक्षा के क्षेत्र में सक्रिय हैं। वह शिक्षा से सम्बंधित सभी क्षेत्रों की जानकारी आप लोगों तक पहुंचाते हैं। इनकी शैक्षिक पृष्ठभूमि इंजीनियरिंग है। शिक्षा के क्षेत्र में प्रवेश करने से पूर्व इन्होने आईटी के क्षेत्र में भी हाथ आजमाए हैं। अगर आपको शिक्षा और नौकरी से सम्बंधित किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप इनसे सम्पर्क कर सकते हैं।