टाइम्स हायर एजुकेशन वर्ल्ड रैंकिन की टॉप 250 यूनिवर्सिटी में किसी भारतीय यूनिवर्सिटी का नाम नहीं

जिन भारतीय यूनिवर्सिटीज के लिए छात्र साल बार एडमिशन लेने के लिए बहुत मेहनत करते है। भारत यूनिवर्सिटीज की टाइम्स हायर एजुकेशन वर्ल्ड रैंकिंग आने के बाद पोल खुल गई है। जानकारी के मुताबिक बुधवार को टाइम्स हायर एजुकेशन वर्ल्ड रैंकिंग 2019 के नतीजों ने सबको चौका दिया है। भारत की किसी भी यूनिवर्सिटीज को टॉप 250 की ग्लोबल रैंकिंग में जगह नहीं मिल पाई है। यह बहुत ही दुखद बात है। भारत में ऐसी तमाम यूनिवर्सिटीज है जिसकी चर्चा हम साल भर सुनते रहते है।

भारत सरकार इन यूनिवर्सिटीज के लिए लाखों रूपये खर्च कर देती है। लेकिन तब भी भारत की कोई भी यूनिवर्सिटीज ग्लोबल रैंकिंग में अपनी जगह नहीं बनाई पाई है। इससे यूनिवर्सिटीज के हालात बयान हो रहे है। भारत सरकार को इस ग्लोबल रैंकिंग के आने के बाद जरूर कुछ अच्छे कदम उठाने चाहिए ।यूनिवर्सिटीज विभाग को देखना चाहिए की कमी कहां रह गई। और उन कमियों को जल्द से जल्द दूर करना चाहिए।

गौरतलब है कि ग्लोबल रैंकिंग में विश्वभर से 1250 यूनिवर्सिटीज को शामिल किया गया है। इन 1250 यूनिवर्सिटी में भारत के 49 यूनिवर्सिटीज को शामिल किया गया है। लेकिन सबसे दुखद बात यह है कि इन 49 यूनिवर्सिटीज ने ग्लोबल रैंकिंग टॉप 250 में अपनी जगह नहीं बना पाई है। यह बहुत बड़ी चिंता का विषय बन चुका है। ग्लोबल रैंकिंग ने हमारे सामने बहुत सवाल खड़े कर दिए है।

आपको बता दें कि ग्लोबल रैंकिंग के अनुसार भारतीय शिक्षण संस्थानों में देश के प्रसिद्ध भारतीय विज्ञान संस्थान में कुछ यूनिवर्सिटीज ने अपनी खास जगह बनाई है। पहला स्थान बेंगलुरु यूनिवर्सिटी को मिला है। और वही दूसरा स्थान आईआईटी इंदौर यूनिवर्सिटी ने हासिल किया है। तीसरा स्थान आईआईटी बॉम्बे यूनिवर्सिटी को मिला है। जानकारी के मुतबिक बॉम्बे यूनिवर्सिटी की रैंकिंग में इस साल गिरावट दर्ज की गई है। इसलिए उसे आईआईएस बेंगलुरु और आईआईटी इंदौर के बाद लिस्ट में जगह दी गई है। चौथा स्थान आईआईटी रुड़की यूनिवर्सिटी का रहा।

अगर हम एशिया में यूनिवर्सिटीज की बात करें तो चीन की शिन्हुआ यूनिवर्सिटी को एशिया के सबसे बढ़िया संस्थान में शामिल किया गया है।और साथ ही साथ चीन की शिन्हुआ यूनिवर्सिटी लिस्ट में पहले पायदान पर है। अगर हम पिछले बार की बात करें तो ग्लोबल रैंकिंग में सिंगापुर की नेशनल यूनिवर्सिटी एशियन एजुकेशनल इंस्टीट्यूट ने अपनी जगह टॉप पर बनाई थी। इस साल चीन की यूनिवर्सिटी सिंगापुर से आगे निकल चुकी है।

बताया जा रहा है कि वैश्विक रैंकिंग में शिन्हुआ यूनिवर्सिटी 22वें स्थान पर है। और वहीं हम विश्व की टॉप यूनिवर्सिटी की बात करें तो इसमें यूनाइटेड किंगडम की यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड और यूनिवर्सिटी और केंब्रिज पहले दो स्थानों पर काबिज है। इन यूनिवर्सिटी क्या खास है जो भारत की यूनिवर्सिटी में खास नहीं है। इन सभी यूनिवर्सिटी से हमे बहुत कुछ सीखना चाहिए।

भारत में कौन-सी यूनिवर्सिटी टॉप पर है 

  1. सबसे पहला स्थान भारतीय विज्ञान संस्थान बेंगलुरु मिला है। जिसकी रैंकिंग 251 से 300 है।
  2. दूसरा स्थान आईआईटी इंदौर को मिला है। जिसकी रैंकिंग 351 से 400 के बीच है।
  3. आईआईटी बॉम्बे की रैंकिंग गिरने के कारण इसको तीसरा स्थान मिला है। जिसकी रैंकिंग 401 से 500 है।
  4. चौथे स्थान पर आईआईटी रुड़की को रखा गया है। जिसकी रैंकिंग 401 से 500 है।
  5. जेएसएस एकेडमी ऑफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च को पांचवे नंबर पर जगह मिली है। जिसकी रैंकिंग भी 401 से 500 है।
  6. राजधानी दिल्ली आईआईटी को छठे नंबर पर जगह दी गई है। जिसकी रैंकिंग 501 से 600 के बीच है।
  7. उत्तर प्रदेश की आईआईटी कानपूर को 7वें नंबर पर जगह मिली है। जिसकी रैंकिंग 501 से 600 के बीच है।
  8. आईआईटी खड़गपुर को 8वें नंबर पर जगह मिली है। जिसकी रैंकिंग 501 से 600 के बीच है।
  9.  सावित्री बाई फुले पुणे यूनिवर्सिटी को 9वें नंबर पर जगह मिली है।जिसकी रैंकिंग 501 से 600 के बीच है।
  10. अमृता यूनिवर्सिटी को दसवें नंबर पर जगह मिली है। जिसकी रैंकिंग 601से 800 के बीच है।
नाम अनिल कुमार है काम लिखना पसंद है ऐसे तो हम रहने वाले गोरखपुर (यूपी )के है लेकिन शुरू से दिल्ली को ही अपना निवास स्थान मान लिया है। मैंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से बी.ए हिंदी (ऑनर्स) किया है और हिंदी जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएशन भी दिल्ली यूनिवर्सिटी से किया है। मैंने नेटवर्क 18 और बोलता हिंदुस्तान वेब पोर्टल में इंटरशिप की है। इसके अलावा मैंने नवभारत टाइम्स और नवोदय टाइम्स में सोशल वर्क भी किया है। मेरी एनबीटी में करीब 50 से ज्यादा न्यूज़ प्रकाशित हो चुकी है वहीं नवोदय टाइम्स में करीब 25 न्यूज़ प्रकाशित हो चुकी है। मुझें 2017 में एनबीटी ने सिटीजन रिपोर्टर ऑफ वीक भी बनाया है। आप मेरे ईमेल आईडी [email protected] के माध्यम से सम्पर्क कर सकते हैं।