जेईई के फॉर्मेट के कारण आईआईटी पर पडा़ प्रभाव

जेईई परीक्षा फॉर्मेट के कारण आईआईटी के सत्र में लगातार गिरावट आ रहा है। पिछले २० सालो में लगातार आईआईटी के स्तर में गिरावट के कई कारण बताये जा रहे है। जिसमे मुख्य तौर पर जेईई के फॉर्मेट में आये बदलावों को गलत बताया जा रहा है। इसके फॉर्मेट में वैकल्पिक प्रश्नो का होना गिरावट का मुख्य कारण है। जिसमें उम्मीदवारों को प्रश्नों के समाधान न करते हुए केवल अनुमान लगा कर उत्तर देना है।

किसी प्रसन का समाधान निकालना और अनुमान लगाना दो अलग चीज़े है| अनुमान लगाने के लिए केवल विकल्प का चुनाव करना है और समाधान निकालने के लिए प्रश्नो को समझना जरुरी है। तो अब प्रश्न ये उठता है कि क्या पुराने फॉर्मेट को वापस लागू करना चाहिए? पर पुराने फॉर्मेट को लागू करना काफी मुश्किल हो सकता है।

हमारे देश में यह एक गलत धरना है की केवल आईआईटी से निकले छात्र ही बेहतरीन है , जबकि आईआईटी के बहार भी बहुत काबिल और बेहतरीन छात्र है। पर कुछ परेशानियों के कारण बहुत से छात्र आईआईटी में प्रवेश नहीं ले पाते है।

जेईई आईआईटी रोपड़ भारत में नए 8 आईआईटी संस्थानों में स एक है। प्रोफेसर सरित कुमार दास जो मदरास आईआईटी के मैकेनिकल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर रह चुके है उन्हें 2015 में आईआईटी रोपड़ का डायरेक्टर घोषित किया गया। सरित कुमार दास का मानना है की 18 वर्ष के आयु तक बच्चे नहीं समझ पाते है की उनकी योग्यता क्या है। उनका कहना है की कुछ छात्र दोस्त और परिवार के दबाव में आईआईटी में प्रवेश ले लेते है। बाद में चल कर यह रघुराम राजन व मनोहर परिकर के जैसे उभर कर सामने आते है ,तो इसमें गलत क्या है।

हाल ही में हुए आईआईटी कौंसिल मीटिंग में आईआईटी -पल शुरू करने का प्रस्ताव रखा गया है। जिसमे छात्रों को अलग-अलग विषयों पर मुफ्त स्टडी मटेरियल उपलब्ध कराया जायेगा। जिससे प्रवेश परीक्षा के लिए तैयारी क्र रहे छात्रों को आसानी से सभी विषयों की जानकारी मिल सके। और छात्र बिना कोचिंग क्लास जाये भी प्रवेश परीक्षा की तैयारी क्र सके।

अक्षत पटेल एक साल से शिक्षा के क्षेत्र में सक्रिय हैं। वह शिक्षा से सम्बंधित सभी क्षेत्रों की जानकारी आप लोगों तक पहुंचाते हैं। इनकी शैक्षिक पृष्ठभूमि इंजीनियरिंग है। शिक्षा के क्षेत्र में प्रवेश करने से पूर्व इन्होने आईटी के क्षेत्र में भी हाथ आजमाए हैं। अगर आपको शिक्षा और नौकरी से सम्बंधित किसी भी प्रकार की दिक्कत है तो आप इनसे सम्पर्क कर सकते हैं।