बी.एड की जगह लेगा यह कोर्स

देश के एजुकेशन सिस्टम में इस साल कई बड़े बदलाव देखने को मिल रहे हैं। जैसे कि सीबीएसई जो भी परीक्षा करवाता था उसे इस साल से नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के द्वारा आयोजित कराया जा रहा है। ऐसा ही एक और बड़ा बदलाव लोगों को देखने के लिए मिलेगा। अब शिक्षक बनने के लिए उम्मीदवारों को बी.एड कोर्स नहीं करना है क्योंकि इस साल से बी.एड कोर्स की जगह दूसरे कोर्स ने ले ली है। आपको बता दें कि इस साल से उम्मीदवारों को शिक्षक की पढ़ाई करने के लिए इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (आईटीईपी) कोर्स में एडमिशन लेना होगा। यह कोर्स 4 साल का होगा। इस कार्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवारों के पास 12वीं कक्षा 50% अंक होने चाहिए।

एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (आईटीईपी) कोर्स इस साल से शुरु होने वाला है। आपको बता दें कि इससे पहले शिक्षक बनने के लिए उम्मीदवारों को 2 साल का बी.एड का कोर्स करना जरुरी था। लेकिन इस साल से शिक्षक बनने में रुचि रखने वाले उम्मीदवारों को आईटीईपी का 4 साल का कोर्स करना जरुरी है। इस कोर्स में उम्मीदवारों को अच्छा अध्यापक बनने की ट्रेनिंग दी जाएगी। आईटीईपी कोर्स का मुख्य लक्ष्य अध्यापकों के गुणों को और बेहतर करने का होगा। जिससे की देश की शिक्षा प्रणाली को और भी अच्छा बनाया जा सके।

इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (आईटीईपी) कोर्स में एडमिशन लेने वाले उम्मीदवारों को सामान्य अध्ययन विषय पढ़ाए जाएंगे जैसे कि गणित, विज्ञान, सामाजिक विज्ञान आदि। इसके अलावा व्यावसायिक अध्ययन विषयों को भी शामिल किया जाएगा। साथ ही शिक्षा के अन्य मुख्य पाठ्यक्रम, स्कूल अध्यापक के कार्यों से जुड़ा ज्ञान उम्मीदवारों को इस कोर्स में प्राप्त होगा। यह कोर्स उन संस्थानों में शुरु किया जाएगा जो संयुक्त संस्थान के रुप में कार्य कर रहे हो। यह कोर्स चार साल का होगा जिसमें कुल आठ सेमेस्टर होंगे। अगर कोई उम्मीदवार किसी सेमेस्टर को पूरा नहीं कर पाता है तो उस उम्मीदवार को इस कार्यक्रम में प्रवेश की तारीख से ज्यादा से ज्यादा 6 साल की अवधि के अंतर्गत में इस कार्यक्रम को पूरा करना होगा।

इंटीग्रेटेड टीचर एजुकेशन प्रोग्राम (आईटीईपी) कोर्स में एडमिशन लेने के लिए अभी चयन प्रक्रिया तय नहीं की गई है। एकीकृत अध्यापक शिक्षा कार्यक्रम (आईटीईपी) में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवारों का चयन प्रवेश परीक्षा से हो सकता है या फिर मेरिट लिस्ट के आधार पर भी चयन किया जा सकता है। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवारों को आवेदन पत्र भरना होगा जिसको जारी करने की अभी कोई सूचना नहीं आई है। आवेदन करने के बाद उम्मीदवारों को आगे की चयन प्रक्रिया को पूरा करना होगा।

मेरा नाम सुरभि शर्मा है।मैंने जर्नलिज्म इन मास कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन कर रखी है।हिंदी अगलासेम में मैं हिंदी कंटेंट राइटर की पोस्ट पर काम करती हूं।यहां पर मैं आपके लिए सभी तरह की शिक्षा से जुड़ी सारी जानकारी देने की पूरी कोशिश करुंगी।लिखने में दिलचस्पी मुझे काफी लंबे समय से है।और शिक्षा के क्षेत्र में लिखने से मुझे काफी कुछ सिखने को मिल रहा है।जो मैं आप सभी के लिए भी लाती रहूंगी।